नवरात्री के नवमी दिन मां की करुणा, दया, स्नेह का भाव किसी भी भक्त पर सहज ही हो जाता है - Yardloo.com - Bihar & Jharkhand News

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

Thursday, September 28, 2017

नवरात्री के नवमी दिन मां की करुणा, दया, स्नेह का भाव किसी भी भक्त पर सहज ही हो जाता है

शक्ति के लिए देवी आराधना की सुगमता का कारण मां की करुणा, दया, स्नेह का भाव किसी भी भक्त पर सहज ही हो जाता है। ये कभी भी अपने बच्चे (भक्त) को किसी भी तरह से अक्षम या दुखी नहीं देख सकती है। उनका आशीर्वाद भी इस तरह मिलता है, जिससे साधक को किसी अन्य की सहायता की आवश्यकता नहीं पड़ती है। वह स्वयं सर्वशक्तिमान हो जाता है।  इनकी प्रसन्नता के लिए कभी भी उपासना की जा सकती है, क्योंकि शास्त्राज्ञा में चंडी हवन के लिए किसी भी मुहूर्त की अनिवार्यता नहीं है। नवरात्री के नवमी दिन इस आराधना का विशेष महत्व है। इस दिन के तप का फल कई गुना व शीघ्र मिलता है। इस फल के कारण ही इसे कामदूधा काल भी कहा जाता है।

                            Image result for नवरात्री के नवमी दिन image                       

No comments:

Post a Comment