जातिगत टिप्पणी का विरोध करने पर माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से निकाले गए 23 सवर्ण छात्र - Yardloo.com - Bihar & Jharkhand News

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

Wednesday, December 18, 2019

जातिगत टिप्पणी का विरोध करने पर माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से निकाले गए 23 सवर्ण छात्र

भोपाल की प्रतिष्ठित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में छात्रों के निष्कासन से बवाल हो गया है… दरअसल ये छात्र विश्वविद्यालय के 2 अनुबंधित प्रोफेसरों के सोशल मीडिया पर सवर्ण विरोधी जातिगत भेदभाव वाली टिप्पणी करने के विरोध कर रहे थे। इस पर कदम उठाते हुए प्रदर्शन और हंगामा करने वाले 23 छात्र छात्राओं को विश्वविद्यालय प्रशासन ने निष्कासित कर दिया है। छात्रों का आरोप है कि यहां के दो प्रोफेसर ने फेसबुक के जरिए राजपूत और ब्रहमण को जूतों से मारने की बात हमेषा करते थे जिसके बाद बिहार ,यूपी और मध्यप्रदेष के छात्रों ने जमकर बवाल किया था,,,जिसके बाद यूनिवर्सिटी के अनुषासन कमिटी ने प्रोफेसर पर कारवाई करने के बजाय यहां के 26 छात्रों को निश्कासित कर दिया,,सभी निश्कासित छात्र बिहार और यूपी के है]]]छात्रों के निष्कासन पर अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने इसे विश्वविद्यालय की मनमानी कार्यवाही करार दिया है.. इससे पहले मंगलवार को 10 सदस्यों की अनुशासन समिति ने इन 23 छात्रों को अनुशासनहीनता का दोषी पाया है। लेकिन छात्रों का आरोप है कि निष्कासित किए गए छात्र छात्राओं को समिति ने पक्ष रखने का मौका नहीं दिया। निष्कासन अवधि के दौरान यह सभी कक्षाओं प्रायोगिक परीक्षा 30 दिसंबर से शुरू होने वाली सैद्धांतिक परीक्षाओं में भी शामिल नहीं हो सकेंगे… दरअसल 12 दिसंबर को माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के छात्रों ने कुलपति कार्यालय के सामने विश्वविद्यालय के अनुबंधित अतिथि प्रोफेसर दिलीप मंडल और मुकेश कुमार द्वारा सोशल मीडिया पर सवर्णों के खिलाफ कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के चलते विरोध प्रदर्शन किया था निष्कासित किए गए छात्रों में बिहार के छपरा के रविभूषण सिंह ने कहा कि  'हमें निष्कासन की सूचना मिली है। अब आगे क्या करना है, इस पर हम फैसला लेंगे लेकिन जो भी होगा शांतिपूर्ण और कानूनी रूप से होगा। हमें इस बात का दुख है कि दोनों प्रफेसरों के बजाय हमें सजा दी गई है। ये प्रफेसर स्टूडेंट्स को जाति आधार पर बांटते हैं और जातिवादी टिप्पणी करते हैं लेकिन उन्हें छोड़ दिया गया।' निष्कासित किए गए छात्रों के नाम सौरभ कुमार, प्रखरादित्य द्विवेदी, राघवेंद्र सिंह, आशुतोष भार्गव, अभिलाष ठाकुर, अर्पित शर्मा, रवि भूषण सिंह, अंकित शर्मा, अर्पित दुबे, सुरेंद्र चौधरी, विवेक उपाध्याय, शुभम द्विवेदी, अंकित कुमार


                                  



                        

No comments:

Post a Comment