बिहार के शिक्षा मंत्री के करीबी की मछली पार्टी की जाँच होनी चाहिए - AskBihar24X7 - Bihar & Jharkhand News

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

Saturday, April 18, 2020

बिहार के शिक्षा मंत्री के करीबी की मछली पार्टी की जाँच होनी चाहिए

मेरा माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीशकुमार जी से नम्र निवेदन है कि ऐसी जो ख़बरें समाचार में चल रही है कि माननीय शिक्षामंत्री जी के क़रीबी के द्वारा जो लगभग सौ से भी ज़्यादा लोगों को मछली भोज दी गई और जिसमें की कई सरकारी पदाधिकारी भी शामिल थे जहाँ कि खुलकर लॉकडाउन क़ानून की धज्जियां उड़ाई गयी है l उसकी जाँच किसी सरकारी अधिकारी से न कराए l उसकी जाँच का ज़िम्मा मुझे दे l इस में कोई परेशानी नहींहोनी चाहिये क्योंकि कभी कभी न्यायालयों से भी हम अधिवक्ताओं को जाँच का ज़िम्मा देकर भेजा जाता है l ओर हम कोई राजनीतिक दल से सम्बंध भी नहीं रखते lइसलिए माननीय मुख्यमंत्री को इसमें कोई परेशानी नहीं होनी चाहिएl
यह कोई साधारण बात नहीं है क्योंकी जब ये काम एक आम आदमी लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए भी ज़रूरत के कार्य से बाहरनिकलता है तो उसे लाठी खाना पड़ता है l तो फिर एक मंत्री और उसका क़रीबी कर्मचारी केवल सरकारी ओर राजनीतिक  रसूख़ के कारण लॉकडाउन के क़ानून की धज्जियां उड़ाने के बावजूद भी कैसे बच सकता है ?उसे बचने नहीं दिया जा सकता l उसे भी वही अंजाम भुगतना पड़ेगा जो कि एक आम आदमी को भुगतना पड़ता है l मैं माननीय मुख्यमंत्री जी को चैलेंज करता हूँ l कि अगर सच  में सुशासन की सरकार है तो किसी सरकारी  महकमें को जाँच ना देकर l या तो किसी विपक्षी को इसका जाँच का ज़िम्मा दे या फिर मुझे जाँच का ज़िम्मा सौंप दें lक्योंकि जहाँ तक मैं जानता हूँ इतना माननीय मुख्यमंत्रीजी को पता होना चाहिए या फिर किसी सरकारी महकमें को मैं किसी भी राजनीतिक दल से जुड़ा हुआ नहीं हूँ l अब मैं अगर माननीय मुख्यमंत्री और इस सरकार  की आलोचना भी करता हूँ तो इसके साथ सही कार्यों के लिए तारीफ़ भी करता हूँ l एवं धन्यवाद भी देता हूँl योंकि इस तरह से किसी को केवल राजनैतिक और सरकारी रसूख़ होने की वजह  से नहीं छोड़ा जा सकता l जहाँ सौ आदमी जमे हैं उसमें किसी भी एक को तो हो सकता है कोरोना संक्रमण l और ऐसा ही अगर एक आम आदमी अपने यहाँ श्राद्ध  कर्म के लिए भी 25 आदमी को बुला रहा है न तो आज की स्थिति में या तो प्रशासन जाके उसका चूल्हा तोड़ती है और खाना फेक वाती हैऔर वही पर माननीय मंत्री  जी श्री कृष्ण नंदन वर्मा जी के क़रीबी पिंटू यादव द्वारा क़रीब सौ से भी जाड़ा जिसने की कई सरकारी अधिकारी भी शामिल होते है उन्हें नई घर की पार्टी समारोह में मछली के भोज पर सभी लॉक डाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए बुलाया जाता है l ओर उस पर कार्रवाई करने की जगह ऑर अधिकारी भोज में शामिल होते हैं l ओर मंत्री जी जाँच की बात कह पल्ला झारते हैं l
यह कैसा न्याय है ? एक तरफ़ श्राद्धकर्म जैसी आवश्यक परंपरागत क्रियाकलापों में भी 10 आदमी को जुटाने की अनुमति नहीं है l और दूसरी तरफ़ केवल सरकारी ओर राजनीतिक रसूख़ होने के कारण मछली पार्टी जैसी शानदार पार्टी नए घर के ख़ुशी में देने के लिए सारी  लॉकडाउन एवं क़ानून की धज्जियां उड़ाई जा रही है l
सरकारी ओर राजनीतिक रसूख़ रखने वाले लोगों द्वारा लॉकडाउन एवं क़ानून की धज्जियां उड़ाई जा रही है  lसुशासन में ऐसा नहीं होना चाहिए l और नाही हम लोग  ऐसा होने देंगे लजब आम आदमी भुगतेगा तो ख़ास भी भुगतेगा lअगर सच में यह सुशासन की सरकार  है तो मैं माननीय मुख्यमंत्रीजी को  चैलेंज करता हूँ l कि वह जाँच का ज़िम्मा सरकारी महकमें को नहीं देकर या तो विपक्ष को दें या फिर निष्पक्ष मेरे जैसे आम आदमी को दें l
हाँ मुझे तो जाँच का अनुभव भी है ही क्योंकि कभी कभी हम लोग न्यायालय के आदेश पर जाँच भी करने जाते हैंlसरकार को इसकी निष्पक्ष जाँच कराना चाहिए नहीं तो इसमें माननीय न्यायालय से हस्तक्षेप करने की आग्रह करनी चाहिएl जिसके लिए मैं सोच भी रहा हूँ l
धन्यवाद l
मणिभूषण प्रताप सेंगर l
जनहित याचिका एक्स्पर्ट अधिवक्ता l
माननीय पटना उच्च न्यायालय



No comments:

Post a Comment